Tu Iss Dil Me Aaj Bhi Jinda Hai // तू इस दिल में आज भी जिंदा है

 ‘ तू इस दिल में आज भी जिंदा है “

तुझे सुला कर भी वहाँ आया हूँ जहाँ सारे ही सोए हैं ,

एसे कैसे तू जग जाएगी ?

ढंककर आया हूँ तुझे बड़े प्यार से ,

तू इस दिल में आज भी जिंदा है

बाहर ना आना वरना इन लोगों की नजर लग जाएगी , 

इश्क अपना ये अब कामिल हुआ है , 

जहाँ बस मैं और तू मिलते हैं , 

बैठकर तेरे पास में , 

फिर से दिल के कमल खिलते हैं , 

मैं फूल भी तेरे पसंद के लाता हूँ , 

जो कलियाँ टूटी हैं उन्हें बिखेर आता हूँ , 

मैं खोकर तेरे मोह में ए दिल , 

घर लौट कर आने में कर देर आता हूँ , 

तू हकीकत में तो साथ नही मेरे , 

पर ख्वाबों में तेरा होता मधुर एहसास है , 

ये जमाने वाले क्या समझेंगे , 

की तू मेरे लिए कितनी खास है , 

बस फर्क इतना है कि , 

तू नींद से उठती ही नही है , 

पर ये भी ठीक है , 

इन पत्थरों से दिल लगाना भी सही नही है , 

कभी कभी काम में फँस कर , 

आता थोड़ा लेट हूँ , 

पर एसा कोई दिन भी नही गया , 

जब तुझसे करता नही भेंट हूँ , 

हँसी सी आती है लोग मुझे पागल कहते हैं , 

कहते हैं ना जाने इस पागल की कौन सी भावनाएँ जगी हैं , 

मैं मन ही मन तुझे सोचकर मुस्कुराता हूँ और कहता हूँ , 

ये नादान क्या समझेंगे की क्या होती दिल्लगी है , 

हो सकेगा अगर तो अपने जीवन के बदले , 

मैं तेरी जिंदगी उधार लूँगा , 

मैं तेरी चाहत में ए दिल , 

यूँ ही सदियों पहर गुजार दूंगा , 

मन में मोह लिए हुए , 

आँखों में लिए हुए तेरी माया हूँ , 

तू सो बेफिक्र होकर , 

मैं यहाँ तेरी छाया हूँ , 

सपनों में तू मिलती तो है , 

पर मुझे तुझे लेकर कहीं दूर जाना है ,

 जो खो सा दिया है मैंने , 

मुझे तेरे साथ वो सब पाना है , 

पहनकर हर रोज तेरे पसंद की आता कमीज हूँ , 

भले ही लोगों को मैं भाता बत्तमीज हूँ , 

ये कैसे समझेंगे की इतना खास क्यूँ ये कपड़ा है , 

इसे पहनकर तेरे सामने आने को ये दिल कितना तड़पा है , 

ना जाने क्यूँ लोग तुझे मरा हुआ कहते हैं , 

मुझे इस बात से कड़ी निंदा है , 

कोई आए और मेरे दिल से पूछे , 

ए दिल तू इस दिल में आज भी जिंदा है , 

हमारी चाहतों के हमने बसाए जो सपने थे , 

मैं धीरे धीरे उनको कर रहा मुकम्मल हूँ , 

तू जैसे मेरी आज है , 

मैं वैसे ही तेरा आने वाला कल हूँ , 

तू तो आजाद हो गई , 

और मैं यहाँ कैद परिंदा हूँ , 

तु मुझसे पहले चली गई , 

बस मैं इस बात से शर्मिन्दा हूँ , 

कल फिर हम यहाँ मुलाकात करेंगे , 

जो भी बाकी रह गई है वो पूरी बात करेंगे , 

चल छोड़ बहुत बातें कर ली अब तू सो जा , 

वरना कल फिर मुझे पछतावा होगा की ये मैंने क्या किया , 

खुद तो जगा रहा रात भर , 

तुझे भी उम्र भर सोने ना दिया…

Thanks For Reading – Wese sach me Tu Iss Dil Me Aaj Bhi Jinda Hai

Follow Me Insta  – @Emptiness_11

Also Read 

Leave a Comment