Best Maa Shayari In Hindi | Mothers Day Shayari 2022

Maa Shayari In Hindi | Mothers Day Shayari 2022 | maa par shayari in hindi | maa baap shayari in hindi | maa ke liye shayari in hindi | shayari for maa in hindi | Mothers Day Shayari Hindi 2022 | Maa Shayari In Hindi 2022 | Maa Shayari In Hindi Images 

Maa Shayari In Hindi

बेपनाह दर्द में थी,
फिर भी
जन्म को मेरे…
सबसे खूबसूरत लम्हा बताती है।

 

Bepanah dard me thi,
Fir bhi
Janm ko mere…
Sabse khoobsurat lamha batati hai.


माँ तेरे प्यार का महत्व बहुत गहरा है
इसीलिए हर वक़्त मेरे ऊपर तेरी साँसों का पहरा है l

 

Maa tere pyar ka mahatv bahut gahra hai
Isiliye har Waqt mere upar teri sanson ka pahra hai.


आज जिन्दगी के पन्ने पर माँ को लिख रहे हैं…!
ये लोग पहली बार सच में खुदा लिख रहे हैं ♥️… ll

 

Aaj jindagi ke panne par Maa likh rhe hai..!
Ye log pahli bar sach me khuda likh rahe hai♥️… ll


मेहनत और धैर्य की आंचपर पके हुए भविष्य का स्वाद,
माँ 擄 के हाथ ️से बने भोजन綾 की तरह होता है l

 

Mehnat or dhairy ki aanch par pake hue bhavishya ka swad,
擄 maa ke hath ️se bane bhojan綾ki tarah hota hai…!!


Maa Shayari In Hindi 

ऐ मां
मेरा दिल कभी टूटता नहीं,
कि अगर तू बता देती,
कि बेटा लोगो पर भरोसा करना नहीं।
ऐ मां
तेरे प्यार ने बढ़ना सिखा दिया,
तेरी डाट ने जीना सिखा दिया।

 

Ea ma
Mera dil kabhi tuta-ta nahi,
Ki agar tu bata deti,
Ki beta logo par Bharosa karna nahi.
E ma
Tere pyar ne badhna sikha diya,

Teri baat ne jeena sikha diya.


थक जाता हूं जीवन से निराश हो जाता हूं

फिर मां को देखता हूं, खुदा के पास हो जाता हूं।

 

Thak jata hun jeevan se nirash ho jata hun,
Fir ma ko dekhta hun, khuda ke pas ho jata hun.


सीख गया हूं झूठ मूठ का मुस्कुराना
मां देख तेरा बेटा बड़ा हो गया

 

Seekh gaya hun jhooth mooth ka muskurana
ma dekh tera beta ab bada ho gya


एक तरफ सब थे, तो दूसरी तरफ मां थी,
कुछ पल बाद एक तरफ कोई नहीं था
लेकिन दूसरी तरफ मां थी।

 

Ek tarf sab the, to doosri taraf ma thi.
Kuch pal baad ek taraf koi nahi tha
lekin doosri taraf ma thi.


Maa Shayari In Hindi

मां कि ममता का जोर नहीं

तुझ जैसा कोई और नहीं

 

Ma ki mamta ka jor nahi
Tujh jaisa koi or nahi


दरख्त की अहमियत न बताए कोई मुझे ,
बिन माँ की छाँव के बचपन बीता है मेरा l

 

Darakht ki ahmiyat na bataye koi mujhe ,
Bin maa ki chhav ke bacpan beeta hai mera… l


हँसती रहो माँ तुम ऐसे ही,
क्योंकि तेरे हंसते हुए चेहरे को देख कर, कभी – कभी तेरा बेटा सारे गम भूल जाता है ll

 

Hasti raho maa tum aese hi,
Kyoki tere haste hue chehre ko dekh kar,
Kabhi kabhi tera beta
Sare gam bhool jata hai… ll


Maa Shayari In Hindi Images

जन्नत से भी ज्यादा
सुकून है…
‘माँ’ तेरे आँचल में l

Maa Shayari In Hindi Images
Maa Shayari In Hindi Images

Jannat se bhi jayada
Sukoon hai….
‘maa’ tere aanchal me.. ll


मैं उसकी हर एक बात को दुआ लिखती ✍️हूँ,
उसे अपने ज़ख्मों की  दवा लिखती ✍️ हूं,
दिल में जब दर्द बढ़ जाता है हद से ज्यादा,
मैं अपने सीने पे उंगली ✌️से माँ लिखती ✍️ हूं l

 

Me uski har ekbat ko dua likhti✍️hu,
Use apne jakhmo ki davalikhti ✍️ hu,
Dil me jab dard badh jata hai had se jyada,
Main apne seene pe ungli ✌️se maa likhti ✍️ hu…. ll


Maa Shayari In Hindi | Mothers Day Shayari 2022

जहां मिलती है खुशियां ही, वो दर मालूम है मुझको
दिलों  पर राज का, हुनर मालूम है मुझको
नहीं मालूम है ईश्वर खुदा, और रब क्या होता है
मगर ️माँ की दुआओं का असर मालूम है मुझको l

 

Jaha milti hai khushiya hi, vo dar malum hai mujhko
Dilopar raj, ka hunar malum hai mujhko
Nahi malum hai ishwar khuda, or rab kya hota hai,
Magar ️maa ki duaon ka asar malum hai mujhko….


मीठे आम का मुरब्बा ,
वो चटपटाअचार,
शक्कर वाली रोटी ,
गुल कंद की बहार ,
कहाँ गया वो स्कूल वाला छोटा टिफ़िन菱,
निगल गयी ये नौकरी ,
माँ वो तेरा खाने वाला प्यार 珞l

 

Meethe aam ka murabba,
Vo chatpata achar,
Shakkar wali roti,
Gulkand ki bahar,
Kaha gaya vo school wala chhota tiffin菱,
Nigal gayi ye naukari,
Maa vo tera khane wala pyar 珞….


 तेरी जिद पूरी करना, तुझे सजाना संवारना , तेरी मनुहार करना, तेरे पीछे भागना , माँ की मुस्कान तुम ही हो,
सच में, माँ की ईदी तुम ही हो l

 

Teri zid puri karna, tujhe sajanasavarna, teri manuhar karna, tere pichhe bhaagna, maa ki muskan tum hi ho,
Sach me, maa ki eiditum hi ho….


तेरा रहम और करम है मां
कि तुझ पर जान लूटा दूंगा मैं
बस तू साथ रहना,
जमाना तो क्या
मुकद्दर को भी हरा दूंगा मैं

 

Tera raham or karam hai ma
Ki tujh par jan luta dunga main
Bas tu sath rahna ,
Jamana to kya
Mukaddar ko bhi hara dunga main


मैंने एक दिन सब कुछ खो दिया था
जब मेरी मां ने मेरे सामने रो दिया था।।।

 

Maine ek din sab kuch kho diya tha
Jab meri ma ne mere samne ro diya tha…


बिना कुछ कहे सब कुछ समझ लेती है मां
आज जीत लिया है मैंने सारा जहां,
तेरे पर मुस्कुराहट जो आ गयी “माँ “….
अब जाकर समझी हूं,
खुदा मुझसे इतना जलता क्यों है..?
तुझ जैसे फरिश्ते की कमी जन्नत में भी जो होगी ‘माँ’… lll

 

bina kahe sab kuch samajh leti hai maa
Aaj jeet liya hai mene sara jahan,
Tere hothon par muskurahat jo aa gayi ‘maa’….
Ab jakar samjhi hun,
Khuda mujhse itna jalta kyo hai…?
Tujh jese farishte ki kami jannat me bhi jo hogi “maa”…lll


मेरे नशीब में नहीं था क क क्यों
तेरा प्यार मेरी मां
तुमसे मिलने कि दुआ करते है बार बार मेरी मां
सब कुछ तो है
पर तू क्यों नहीं मां

 

Mere nasheeb me nahi Tha Kyu Tera pyar Meri ma
Tumse milne ki dua karte Hai bar bar Meri ma
Sab kuch to Hai
Par tu Kyu nahi Hai ma


चलते चलते आज भी जब थक जाता हूं मां
जब कभी भी गम की गहराई में खुद को पाता हूं मां
तेरा आचल आज भी याद आता है मां
कैसे तेरे पास होने के एहसास मात्र से हि गम कोसो दूर रहते थे मां
आज भी उन यादों को याद करके अपने आप को फिर भी कितना खुश किस्मत मानता हूं मां
तेरा आचल आज भी याद आता है मां

 

Chalte chslte aaj bhi jab thak jata hun ma
Jab kabhi bhi gam ki gahrai me khud ko pata hun ma
Tera aachal aaj bhi yad aata ha ma
Kaisa tera pas hone ke eahsas matra se hi gam koso door rahte the ma
Aaj bhi un yadon ko yad karke apne aap ko fir kitna khush kismat manta hun ma
Tera aachal aaj bhi yad aata hai ma


Maa Shayari In Hindi 

वो मां की बाहों में सिर रखकर सोना,
वो मां के आंचल से मुंह पोछना,
याद आती है याद आती है।
वो मां के हाथों से निवाला खाना,
वो मां के मुंह से लोरिया सुनना,
याद आती है याद आती है।

 

Wo ma ki bahon me sir rakhkar sona,
Wo ma ke Aanchal se muh pochna,
Yad aati hai yad aati hai!
Wo ma ke hatho se niwala khana,
Wo ma ke muh se leriya sunna,
Yad aati hai yad aati hai!!!


कभी दर्द का मरहम कभी सुकूं का आसमां हो जाती है,
औरत जब छाती से लगा लेती है, तो मां हो जाती है।।

 

Kabhi dard ka marham kabhi sukoon ka aasma ho jati hai,
Aurat jab chhati se laga leti hai, to ma ho jati hai.।।


अपनी मैया के लिए वो सब से प्यारा था,
उनकी अंधेरी ज़िन्दगी का वो हि सहारा था,,
राधा ने किया उसके लाल को अपनी मैया से दूर,,,
राधा क्या जाने…?
वो ही केवल अपनी मैया के बुढ़ापे का सहारा था।।

 

Apni maiya ke liye wo sab se pyar tha,
Unki andheri zindgi ka wo hi sahara tha,,
Radha ne kiya uske laal ko apani maiya se door,,,
Radha kya jane…?
Wo hi Kewal apni maiya ke budhape ka sahara tha।।


फिर एक परवरिश ने दम तोड़ दिया,
वृद्धा आश्रम ने फिर एक कमरा खोल दिया।

 

Fir ek parwarish ne dam tod diya,
Vriddha aashram ne fir ek kamra khol diya.


तेरे बारे में सोच कर आंखे भी नम हो जाती हैं,
देखा है मैने भी “मां”
कि कैसे दुनिया तेरे एहसानों को भूल जाती है।

 

Tere bare me soch kar aankhe bhi nam ho jati hain,
Dekha hai maine bhi “ma”
Ki kaise duniya tere eahsano ko bhool jati hai.


दरार वो घर में नहीं दिल में पड़ी थी,
और बटवारा जमीन का कर रहे थे।
यहां मां बाप के जज्बात टूट रहे थे,
वहां बच्चे घर तोड़कर मजे लूट रहे थे।

Darar wo ghar me nahi dil me padi thi,
Or batwara jameen ka kar rahe the,
Yaha ma baap ke jajbaat toot rahe the,
Waha bacche gahr todkar maje loot rahe the.


बिन मांगे मेरी दुआ कबूल हो गई, मैं गलतफहमी में था…
मैंने सोचा ही नहीं कि मेरी मां मेरे लिए हर रोज दुआ करती है।

 

Bin mange meri dua kabool ho gai, main galatfehmi me tha…
Maine socha hi nahi ki meri ma mere liye har roj dua karti hai.


काश कोई ऐसा व्रत हमें भी बताए…
कि हम मां पिताजी को हर जन्म में पा सके।

 

Kash koi esa vrat hume bhi bataye…

Ki hum ma pitaji ko har janm me pa sake.


दुआएं कम पड़ जाती हैं जमाने भर कि,
सर से पिता का हाथ और दरवाजे से मां कि नजर नहीं हटती।

 

Duaen kam pad jati hai jamane bhar ki,
Sar se pita ka hath aur darwaje se ma ki najar nahi hatati.


माँ तुमसे बातें करने को तरसे है मन,
गोद में तुम्हारे सोने को,
हाथों駱 से तुम्हारे खाने को,
तुम्हारे गले लग हमेशा के लिए सो जाने को .. ll

 

Maa tumse baate karne ko tarse hai man,
God me tumhare sone ko,
Hatho駱 se tumhare khane ko,
Tumhare gale lag hamesha ke liye so jane ko… ll


फिर गुलजार होगा, ये बंजर गुललिस्तां भी
जो बाग थोड़ा हम सजाएँ
और थोड़े फूल 鹿तुम लगाओ,
जन्नत ♥️फिर बनेगा, ये ताज-ए- हिन्दोस्तां  भी
जो तुमको गले हम लगाएं
और शिकवे सारे तुम भूल जाओ .. ll


Fir guljar hoga, ye banjar gulistanbhi,
Jo baag thoda ham sajayen
Or thode fool鹿 tum lagao,
Jannat fir banega, ye taaj- ae- hindostan  bhi,
Jo tumko gale ham lagayen
Or shikve sare tum bhool jao.. ll


कुछ भी करूँ पर ऐसा हो नहीं सकता ,
मैं लाख चाहूँ पर माँ擄 हो नहीं सकता l

 

Kuch bhi karupar aesa ho nahi sakta,
Main laakh chachu par maa 擄ho nahi sakta….


तेरे बारे में सोच कर 樂ये आँखें भी नम हो जाती हैं,
देखा है मैंने भी “माँ” 擄,
कि कैसे ये दुनिया , तेरे अहसानों को ही भूल जाती है l

 

Tere bare me soch kar樂ye aankhe bhi nam ho jati hai,
Dekha hai mene bhi “maa” 擄,
Ki kese ye duniya, tere ahsano hi bhool jati hai… ll


वृक्ष  पर लिपटी लताओं सी,
निज साथ 欄रहती है माँ 擄 दुआओं सी ♥️… l

 

Vraksh par lipti lataon si,
Nij sath rahti hai maa 擄 duao si♥️… ll


वृक्ष  पर लिपटी लताओं सी,
निज साथ 欄रहती है माँ 擄 दुआओं सी ♥️… l

 

Vraksh par lipti lataon si,
Nij sath rahti hai maa 擄 duao si♥️… ll


मुझे बेटा चाहिए,
मुझे बेटी चाहिए, नहीं
मुझे तो दोनों चाहिए,
क्यों भला…?
जैसे दोनों माता – पिता चाहिए परिवार  के लिए,
वैसे ही बेटा – बेटी चाहिए समाज️ के लिए ♥️… ll

 

Mujhe beta chahiye,
Mujhe beti chahiye,
Mujhe to dono chahiye,
Kyo bhala…?
Jese mata- pita chahiye parivar ke liye,
Vese hi beta – beti chahiye samaj ️ke liye ♥️… ll


कल बारिश ️ने मकां कई गिराए कैफ ,
अब धूप  आ गयी नुकसान देखने️,
ये कुदरत भी 擄 माँ लगती है शायद बहुत देर तक गुस्सा नहीं रहती l

 

Kal bariah ️ne makan kai giraye kaif,
Ab dhoop  aa gai nuksan dekhne️,
Ye kudrat bhi maa擄 lagti hai shayad bahut der tak gussa nahi rahti.. ll


हालात बुरे थे लेकिन रखती थी अमीर बनाकर ,
हम गरीब हैं ये सिर्फ मां जानती थी।

 

Halat bure the Lekin rakhti thi ameer bsnakar,
Hum gareeb hai ye sirf ma janti thi.


मतलब भारी इस दुनिया में मतलब को काट देती है,
भूखी होने पर भी मां, रोटी बच्चों को बाट देती है।

 

Matlab bhari is duniya me Matlab ko kat deti hai,
Bhukhi hone par bhi ma, roti baccho ko baat deti hai.


देखना
कभी नम ना हों तुम्हारे मां बाप की आंखे,
छत से पानी टपके, तो दीवारें कमजोर होती है।

 

Dekhna
Kabhi nam na ho tumhare ma baap ki aankhen,
Chhat se pani tapke, to diwaren kamjor hoti hain.


जब जब कलम से लिखा मैंने माँ का नाम…!
कलम अदब से बोल उठी हो गये चारों धाम… ll

 

Jab jab kalam se likha mene maa ka naam..
Kalam adab se bol uthi ho gaye chaaro dham..


दूध का कर्ज मां तेरा कभी नहीं चुका पाऊंगा,
जो दर्द सहा तुमने कैसे मैं वह लिख पाऊंगा।

 

Doodh ka karz ma tera kabhi nahi chuka paunga,
Jo Dard Saha Tumne kaise me wah likh paunga.

 

Read more

Maa Shayari In Hindi आप हमे जरूर बताएं की आप को हमारा ये पोस्ट केसा लगा ? , अपने सुझाव वा राय देने के लिए कमैंट्स करना बिलकुल ना  भूले।

धन्यवाद 

3 thoughts on “Best Maa Shayari In Hindi | Mothers Day Shayari 2022”

Leave a Comment