Hindi Poem On Maa // मां हिंदी कविता 2022

Hindi Poem On Maa

 

मेरे गिरने से उसे चोट आती है,

मेरी भूख पे वो बिलख जाती है,

खुद जाग कर हमे लोरी सुनती है,

मैं इतना बड़ा हो गया हूं फिर भी मुझे गोद में उठाती है,

मुझे देख कर वो खुश हो जाती है,

मेरी बीमारी का वो इलाज 殺बन जाती है,

मेरी खुशी का वो जहान♥️ बन जाती है,

खुद के लिए कभी दुआ नहीं मांगती है,

लेकिन मेरे लिए दुआ मांगती है,

पर खुद पर अफसोस! होता है मुझे!

कि दुनिया भर कि खुशी तेरे लिए कैसे ला पाऊंगा।

चेहरे पर झुर्रियां️ पड़ती जा रहीं है,

शायद उसकी उम्र बढ़ती जा रही है।

बस यही सोच कर मन मेरा घबरा जाता है,

बस यही चाहत है मेरे कि मर जाऊं तेरी वफात से पहले,

जिस ने मुझे प्यार♥️ किया मेरी हयात से पहले,

खैर भगवान से यही दुआ है कि हर दिन तेरे साथ रहें,

कोई भी ऐसा दिन ना हो जो तेरे बिना हो

बस मैं चाहता हूं कि हर दिन मातृदिवस हो।।।殺殺

 

Mere girne se use chot  aati hai,

Meri bhookh pe wo bilakh jati hai,

Khud jag kar hume Lori sunati hai,

Main itna bada ho gya hun fir bhi, mujhe god me uthati hai,

Mujhe dekh kar wo khush ho jati hai,

Meri bimari ka wo ilaj殺 ban jati hai,

Meri khushi ka wo Jahan♥️ ban jati hai,

Khud ke liye kabhi dua nahi mangti,

Lekin mere liye dua mangti hai,

Par khud par afsos hota hai mujhe,

Ki duniya bhar ki khushi♥️ tere liye, kese la paunga,

Chehre par ab jhurriya padti ja rahi hai,

Shyad uski umr bhadti ja rahi hai,

Bas yahi soch kar man mera ghabra jata hai ,

Bas yahi chahat hai meri ki mar, jaun me teri wafat se pahle ,

Jish ne mujhe pyar♥️ kiya meri hayat se pahle,

Khair bhagwan se yahi dua hai ki har din tere sath rahe,

Koi bhi esa din na ho jo tere bina ho

Bas main chahta hun ki har din matradiwas ho.殺殺殺


Hindi Poem On Maa

 

जब भी याद आती है घर  की,

चुप चाप एकांत में रो लेता हूँ,

कुछ जीतने की ख्वाहिश है,

जाने क्या हासिल हुआ,

पर जब याद आती है तेरी 擄 माँ,

सब कुछ हारजाता हूँ,

बड़े अरमां लेकर अपने मैं,

घर  से दूर चलातो आया,

पर आपका खालीपन सुन , पापा ख़ुद में कहीं बिखर जाता हूँ,

जब भी याद आती है घर  की,

चुप चाप कही अकेले में मैं रो  लेता हूँ l

 

Jab bhi yad aati hai ghar ki,

Chup chap ekant me ro leta hu,

Kuch jeetne ki khwahish hai,

Jane kya hasil hua,

Par jab yad aati hai teri maa 擄,

Sab kuch har jata hu,

Bade arman lekar apne main,

ghar se door chalato aaya,

Par aapka khalipan sun, papa khud me hi kahi bikhar jata hu,

Jab bhi yad aati hai  ghar ki,

Chupchap kahi akele me main roleta hu… ll


 

Hindi Poem On Maa

 

 

बहुत याद आ रही है तुम्हारी ,

क्या में घर आ जाऊं मां

मेरा सब कुछ तुम हि तो हो,

तुम्हारे लिए क्या लाऊं मां

चाबी नहीं है मेरे पास,

दरवाजा खोलो ना मां

डरा रही है मुझे खामोशी,

मेरे लिए बोलो ना मां

मेहमानों जैसा स्वागत ना करो,

सीने से लगा लो ना मां

पराई नहीं हूं मैं भी आपके लड़के जैसी हूं,

सबको बता दो ना मां 

 

Bahut yad aa rahi hai tumhari,

Kya me ghar aa jaun ma

Mera sab kuch tum hi to ho,

Tumhare liye kya laun ma

Chabi nahi hai mere paas,

Darwaja kholo na ma

dara rahi hai mujhe khamoshi,

Mere liye bolo na ma

mehmano jaisa swagat na karo,

Seene se Laga lo na ma

Parai nahi hun main bhi aapke ladke jaise hun,


Hindi Poem On Maa

 

Sabko bata do na ma.

मां櫓 मुझको तो आज सीने से लगा ले

अपने आंचल में छुपा ले 櫓

पास बैठकर थोड़ा लाड तू कर ले

तरस गया में ममता को तेरे 

एक निवाला अपने हाथ से 

मां मुझको तु फिर से खिला दे 殺

मैं तेरी बात का एहसास 櫓

भुल गया में तेरी गोद櫓 का एहसास

आज कुछ याद नहीं दर्दों के सिवा

क्यों कर दिया मुझे खुद से जुदा

क्या मुझको तू भूल गई।

बस मां擄 तुमने बहुत निभा ली जिम्मेदारियां

आज फिर से मां मुझे लोरी李 सुना दे

जाने कब से तड़प रहा हूं

एक बार मेरी ओर देख ले मां

बहुत हुआ ये शिकवा शिकायत 

नहीं मुझे तेरी ममता擄 पर शक

बस मुझको तू आज तेरी गोद櫓 में सुला ले

मुझको तू आज सीने擄 से लगा ले ।।❤️❤️❤️

Ma櫓 mujhko tu aaj seene se laga le

Apne Aanchal me chupa le櫓

Pas baithkar thoda lad tu kar le

Taras gaya me mamta ko tere 

Ek niwala apne hath se 

ma mujhko tu Fir se khila de殺

Ma Teri bat ka eahsas櫓

Bhool gya me teri god櫓 ka eahsas

Aaj kuch yad nahi dardo ke siwa

Kyo kar diya mujhe khud se juda

Kya mujhko tu bhool gai

Bas ma擄 tumne bahut nibha lee jimmedariyan

Aaj fir se ma mujhe lori suna de殺

Jane kab se tadap raha hun

Ek bar meri or dekh le ma擄

Bahut hua ye shikwa shikayat

Nahi mujhe teri mamta擄 par shak

Bas mujhko tu aaj teri god櫓 me sula le

Mujhko tu aaj seene櫓 se laga le…❤️❤️❤️


Hindi Poem On Maa

 

इस तरह वो मेरी गुनाहों को धो देती है

मां जब गुस्से में होती है रो देती है

मुझ में लाखों बुराई सही

फिर भी नजर उतारती है

मैं जिद्दी हूं तो कसूर भी उसका है

वो प्यार ही मुझे बेहद करती है

जब कोई ना दे साथ

तो मां हि साथ होती है

हर झूठ पे भी एतबार करती है

किसी ने सच हि कहा है

कि इस दुनिया में मां हि सच्चा प्यार करती है

रोटी एक मांगते है वो दो लाकर देती है

वो मां हि है यारो

जो हमें प्यार करती है

 

Is tarah wo mere gunaho

Ko dho deti Hai

Ma jab gusse me hoti Hai to ro deti Hai

Mujhme lakh burai sahi

Fir bhi najar utarti Hai

Main jiddi Hun to kasoor bhi uska Hai

Wo pyar hi mujhe behad karti Hai

Jab koi na de sath

To ma hi sath hoti Hai

Har jhooth pe bhi eatbaar karti Hai

Kisi ne Sach hi kaha Hai

Ki is duniya me sirf ma hi saccha pyar karti Hai

Roti ek mangte Hai wo do lakar deti Hai

Wo ma hi Hai yaro

Jo Hume pyar karti Hai


 

Hindi Poem On Maa

 

क्या लिखुं।

कि मां भगवान का रूप होती है,

या भगवान होती है,

चिलचिलाती धूप में सुहानी छांव होती है,

या कड़कड़ाती ठंड में रूहानी धूप,

क्या लिखुं।

कि उसके बिना वर्णमाला अधुरा है,

या वर्णमाला है वो

नारी लिखूं या आदि शक्ति

क्या लिखुं ।

वह है तो घर में उजाला है।

या मेरी मुसीबतों पर लगाती ताला है,

हमारी उदासी की दवा,

या पापा के गुस्से को भगाने वाली हवा,

क्या लिखुं।

कि वो जिंदगी जीने का आचरण सिखाती है,

यह हमारे झोपड़े को महल बनाती है,

कभी मुझे शब्द सिखाती है,

या मेरे लिए शब्दकोश बन जाती है,

क्या लिखुं।

कि उसका प्यार सबसे जरूरी है,

या वो ना हो तो जिंदगी अधूरी है,

क्या लिखुं।

कि उसकी गोद में हर ख्वाब मुकम्मल सा लगता है,

या उसके साथ हर दर्द बेगाना सा हो जाता है,

क्या लिखुं

कि वो अब मेरा साथ चाहती है,

या मेरे घर आने के इंतजार में द्वारे पे वक्त बिताती अकेले बेहिसाब

क्या लिखुं।

कि वो मेरे सर पर हाथ रख देती तो मिलती खुशियां बेहिसाब,

क्या हरदम मुझे कहती कि तू फले फूले बेहिसाब,

क्या लिखुं।

कि मेरी चोट पर देती गाली मुझको बेहिसाब,

या पी के घूंट आंसू का लगाती मलहम बार-बार ,

क्या लिखुं…

 

Kya likhun

Ki ma Bhagwan ka Roop hoti hai

ya Bhagwan Hoti hai

Chilchilati dhoop me suhani chaw hoti hai

Ya kadkadati thand me ruhanee Dhoop

Kya likhun

Ya warnmala hai wo

Nari likhun ya aadi Shakti

Kya likhun

Wah hai to Ghar me ujala hai

Ya meri musibaton par lagati tala hai

Hamari udasi ki dawa

Ya papa ke gusse ko bhagane wali hawa

Kya likhun

Ki wo zindgi jeene ka aacharan sikhati hai

Yah hamare jhopde ko mahal banati hai,

Kabhi mujhe shabd sikhati hai,

Ya mere liye Shabdkosh ban jati hai

Kya likhun

Ki uska pyar sabse jaruri hai.

Ya wo na ho to zindgi adhuri hai

Kya likhun

Ki uski god me har Khwab mukammal sa lagtab hai

Ya uske sath har Dard begana sa ho jata hai,

Kya likhun

Ki wo ab mera sath chahti hai

Ya mere ghar aane ke intzar me dware pe waqt bitati akele behisab

Kya likhun

Ki wo mere sar par hath rakh deti to milti khushiyan behisab

Kya hardam mujhe kahti ki tu fale foole behisab,

Kya likhun

Ki meri chot par deti gali mujhko behisab

Ya pee ke ghoont aanshun

Ka lagati malham bar bar

Kya likhun


Hindi Poem On Maa


मेरी हर गलतियों पर पर्दा डालती है तू माँ,

मेरी हर असफलता में भी साथ देती है तू माँ l

काँटा मेरे पैर में चुभता है

पर कराहती तू है माँ,,

स्नेह से सराबोर अपनी

ममता मुझ पर तू लुटाती माँ ll

अपना दर्द छुपा कर,

मुझे खुश रखती है तू माँ,

अखंड है असीमित है,

तेरी ममता का दायरा माँ

तेरी ममता का दायरा माँ…. ll

 

Meri har galtiyo par parda dalti hai tu maa,

Meri har asafalta me bhi

Sath deti hai tu maa.. l

Kaata mere pair me chubhta hai,

Par karahti tu hai maa,,

Sneh se sarabor apni

Mamta mujh par tu lutati maa… l

Apna dard chhupa kar,

Mujhe khush rakhti hai tu maa,

Akhand hai, aseemit hai,

Teri mamta ka dayra maa

Teri mamta ka dayra maa.. ll


Hindi Poem On Maa

 

कैसे कहूं मैं राज ये दिल के

 

छुपे हुए जो गहरे मन में

 

किसको पकडू या किसको छोडू

 

द्वंद्व से बाहर कैसे निकलु

 

चीर के आसमां बस निकलना चहुं

 

उठते गिरते बस मंजिल में चहुं

 

पता नहीं क्या रोक मुझको

 

पता नहीं क्यों में रोकु खुद को

 

मां ने तो बस उड़ना दिखाया

 

जाड़ों को पकड़े रखना सिखाया

 

अब मुझे ही शायद ढूंढना होगा

 

पथ खुद को ही अब चुनना होगा

 

बस खुदा से दूर हो ना जाऊं

 

दुनिया से रूबरू होके कहीं

 

बस मां का आंचल भूल ना जाऊं

 

बस मां का आंचल भूल ना जाऊं

 

Kaise kahun main raj ye dil ke

 

Chupe hue jo gahre man me

 

Kisko pakdu ya kisko chhodun

 

Dwand se bahar kaise niklu

 

Cheer ke aasman bas nikalna chahun

 

Uthte girte bas manjil me chahun

 

Pata nahi kya roke mujhko

 

Pata nahi kyon me roku khud ko

 

Ma ne to bas udna dikhaya

 

Jadon ko pakade rakhna sikhaya

 

Ab mujhe hi shayad dhundhna hoga

 

Path khud ko hi ab chunana hoga

 

Bas khuda se door ho na jaun

 

Duniya se roobaru hoke kahin

 

Bas ma ka aanchal bhool na jaun

 

Bas ma ka aanchal bhool na jaun

 


hindi poem on maa

 

घर में आज कोई नहीं 爛,

 

माँ 擄अभी तक सोई नहीं,l

 

सुकून मिले भी तो कैसे,

 

आँखे तेरी जो रोई  नहीं l

 

मौसम ने छीना निवाला 綾,

 

‘फसल’ उसने बोयी नहीं l

 

मालूम है मुझे अच्छे से,

 

तुम सा कोई और नहीं 爛 l

 

चला गया वो छोड़ कर,

 

पलकें ️ तूने भिगोई नहीं 爛 l

 

“अजनबी” तन्हा क्यूँ हो,

 

क्या तेरा यहां कोई नहीं 爛 l

 

Ghar  me aaj koi Nahi 爛,

 

Maa 擄 abhi tak soi nahi.

 

Sukoon mile bhi to kese,

 

Aankhe teri jo roinahi.

 

Mosam ne chhina nivala 綾,

 

‘Fasal’ usne boi nahi.

 

Maloom hai mujhe ache se,

 

Tum sa koi or nahi爛.

 

Chala gaya vo chhod kar,

 

Palke️ tune bhigoi nahi 爛.

 

“ajnabi” tanha kyu ho,

 

Kya tera yaha Koi Nahi 爛…. ll


hindi poem on maa

 

जैसे खेतों की हरियाली,

 

जैसे चले पवन पुरवाई,

 

जैसे बरसे बरखा रानी,

 

जैसे कोयल की कूक निराली,

 

यूं लगता है माँ का आँचल l

 

जैसे हो आँखों का काजल,

 

जैसे हो लहराता बादल ️

 

जैसे प्यास में ठण्डा पानी,

 

जैसे ज़मीं पर अंबर उतरे,

 

यूं लगता है माँ का आँचल ll

 

Jese kheto ki hariyali,

 

Jese chale pavan purvai,

 

Jese barse barkha rani,

 

Jese koyal ki kook nirali,

 

Yun lagta hai maa ka aanchal,

 

Jese ho aankho ka kajal,

 

Jese ho lahrata badal️

 

Jese pyas me thanda pani,

 

Jese zamee par ambar utre,

 

Yun lagta hai maa ka aanchal…. ll

 


hindi poem on maa

 

माँ तेरे हैं अनेकों रूप

 

जैसे बारिश बसंत शरद और धूप 

 

तेरी बारिश ने मुझे भीगना सिखाया,

 

मेरी गलतियों को धोना सिखाया l

 

तेरी बसंत ने खिलना सिखाया,

 

दुनिया के बागों में महकना सिखाया l

 

तेरी शरद ने शीतल बनाया,

 

कठिन परिस्थितियों में खड़ा रहना सिखाया l

 

तेरी धूप  ने तपना सिखाया,

 

दूसरों की बुरी मनसाओं को जलाना सिखाया l

 

तेरी सीख ने जीना सिखाया,

 

जीवन की राहों में चलना सिखाया l

 

तेरी ममता ने हंसना सिखाया,

 

जिन्दगी से प्यार करना भी सिखाया l

 

Maa tere hai aneko roop,

 

Jese barish basant or dhoop.

 

Teri barish ne mujhe bheegna sikhaya,

 

Meri galtiyo ko dhona sikhaya.

 

Teri basant ne khilna sikhaya,

 

Duniya ke bago me mahakna sikhaya.

 

Teri sharad ne sheetal banaya,

 

Kathin paristhiyon me khade rahna sikhaya.

 

Teri dhoop  ne tapna sikhaya,

 

Dusro ki buri mansao ko jalana sikhaya.

 

Teri seekh ne jeena sikhaya,

 

Jeevan ki rahon me chalna sikhaya.

 

Teri mamta ne hasna sikhaya,

 

Jindagi se pyar karna bhi sikhaya…. ll

 


hindi poem on maa

 

रंगरेजा तेरे दर पर आज

 

रूह ने अर्जी लगाई है,

 

जान के मेरी अरज तू

 

देरी न लगाना,

 

खुदा तेरी गुरबत को

 

उस पाकीजा के

 

चेहरे मैं देखता हूँ,

 

जिसके पाक अमृत

 

पर मैंने इस संसार

 

में कदम रखा

 

ग़र कहूँ कि बक्ष दे मुझे वो

 

तरकीब कि उसकी

 

कोख में वो समय

 

मैं फिर से बिता सकूँ

 

फिर उन नौ महीनों के

 

लिए मेरी माँ की गोद

 

में बँध आँखों को भींचे

 

जिन्दगी की पाक सच्चाई

 

कि धुन में फिर से सो सकूं l

 

Rangreja tere dar par aj

 

Rooh ne arji lgai hai,

 

Jaan ke meri araj tu

 

Deri na lagana,

 

Khuda teri gurbat ko

 

Us pakeeja ke

 

Chehre me dekhta hun,

 

Jiske paak amrit par

 

Mene is sansar

 

Me kadam rakha

 

Gar kahun ki baksh de mujhe vo,

 

Tarkeeb ki uski

 

Kokh me vo samay

 

Main fir se bita sakun

 

Fir un nau mahino ke

 

Liye meri maa ki god

 

Me bandh aankho ko bheeche,

 

Jindagi ki pak sacchai ki

 

Dhun me fir se so sakun.. ll

 


hindi poem on maa

 

जब रोई तो तू भी रोई,

 

जब हंसी तो तू भी हँसी ,

 

जब नहीं थी पास तो तू ही तू याद आई,

 

तेरे आँचल की छाँव याद आयी,

 

तेरी लोरियों की धुन, वो बीते हुए दिन याद करायी,

 

तेरे ममता की खामोश आवाज गूंज कर, मेरी आँखों को नम कर आई,

 

माँ तू ही याद आयी,माँ तू ही तू हर जगह छायी,

 

मेरी प्यारी माँ तू परछाइ बन कर मेरे साथ हर जगह आई l

 

Jab roi to tu bhi roi,

 

Jab hasi to tu hasi,

 

Jab nahi thi pas to tu hi tu yad aai,

 

Tere aanchal ki chhav yad aayi,

 

Teri loriyon ki dhun, vo beete hue din yad karai,

 

Tere mamta ki khamosh aawaj goonj kar, meri aankho ko nam kar aayi,

 

Maa tu hi tu yad aayi, maa tu hi tu har jagah chhai,

 

Meri pyari maa tu parchhai ban kar, mere sath har jagah aayi… ll


hindi poem on maa

 

जिन्दगी की समझ बड़ी ही नायाब है

 

इसको थोड़ा सा पढ़ा क्या, लिखने ✍️लग गया,

 

मैंने चंद मोती पिरोये थे अपनी  किताब में,

 

सबकी आंखों से छलका बिकने लग गया,

 

हम भी कहते थे कि लोग बहुत बुरे हैं,

 

धूल आँखों से साफ की आईना दिखने लग गया,

 

कि आज भी कुछ छुपा नहीं पाता हूँ उनसे,

 

माँ ने हाथ️ फेरा सर पे मैं सिसकने लग गया l

 

Jindagi ki samajh badi hi nayab hai,

 

Isko thoda sa padha kya, likhne✍️lag gay,

 

Mene chand motipiroye the apni kitabme,

 

Sabki aankhose chalka bikne lag gaya,

 

Ham bhi kahte the ki log bahut bure hai,

 

Dhool aankho se saf ki aainadikhne lag gaya,

 

Ki aaj bhi kuch chhupa nahi pata hu unse,

 

Maa ne hath️fera sar pe main sisaknelag gaya….


माँ लौट आओ या मुझे ले जाओ साथ अपने

 

इस जहां में कोई नहीं अब मेरे अपने l

 

प्यार को तरस गयी है पाखी

 

और कोई तमन्ना नहीं है बाकी l

 

लगा लो एक बार हृदय से

 

बहुत ठंडक पहुचेगी माँ

 

नहीं चाहिए कुछ और माँ l

 

जिन्दगी खाली है

 

न कोई हमदर्द है, न कोई सहेली

 

जीना पड़ता है माँ,

 

कैसी ये पहेली हैl

 

मन को नोच खाने वाले दरिंदे देखें

 

प्यार को जता के उड़ जाने वाले परिंदे भी देखे,

 

जी भर के उन सबको को रोंदने दिया,

 

खुद को जी भर के रोने भी दिया l

 

Maa lot aao ya mujhe le jao sath apne

 

Is jahan me koi nahi ab mere apne..

 

Pyar ko taras gayi hai pakhi

 

Or koi tamanna nahi hai baki..

 

Laga lo ek bar hirday se

 

Bahut thandak pahuchegi maa,

 

Nahi chahiye kuch or maa..

 

Jindagi khali hai

 

Na koi humdard hai, na koi saheli,

 

Jeena padta hai maa,

 

Kesi ye paheli hai.. l

 

Man ko nochkar khane wale darinde dekhe,

 

Pyar ko jata kar ud jane wale parinde dekhe,

 

Jee bhar ke un sabko rondane diya,

 

Khud ko jee bhar ke ronebhi diya….. ll


बता मेरी लाडो

 

कैसे बताऊँ☹️ मैं तुझको

 

कैसा रोका है ममता को

 

जज्बातों के उमड़ते सैलाब को

 

कैसे लाऊं कोख से बाहर

 

मेरी मासूम गुड़िया को

 

खिलौना 菉समझ कर खेलेंगे

 

नही तेरी 擄माँ के

 

घर  में सब खिलाफ हैं

 

कैसे जन्म दूँ तुझको

 

बचपन से ही संघर्ष की आग  में

 

कैसे झोंक दूँ तुझको

 

जन्म ग़र दे भी दूँ 

 

बाहर फ़ेक देंगे तुझको

 

कहीँ झाड़ियां या चौराहे की

 

छाँव मिलेगी तुझको

 

अच्छा चलो वहां मैं रोक ️लूँ

 

शायद ताकत आ जाए मुझमे

 

फिर जब तू बड़ी हो जाएगी

 

पंख फैलाने से पहले ही रोक ️देंगे तुझको

 

लड़कि होने के नाते जो मैंने सहा है लाडो

 

कैसे सहने दूँ तुझको 

 

चलो घर पर सबसे लड़ कर

 

बचा लूंगी तुझको

 

बाहर घूमते दरिंदों से

 

कैसे बचाउंगी तुझको

 

घूरेगी वो गिद्ध सी निगाहें ️

 

देख कर तकलीफ होगी तुझको

 

माना तू लड़ लेगी उनसे

 

तुम पर विश्वास है मुझको

 

जवानी की दहलीज पर खड़ी होगी

 

पैसे के तराजू ⚖️से तौलेंगे तुझको

 

अब बता ये सब

 

कैसे बर्दाश्त हो मुझको

 

इन सबके बावजूद तू

 

छोड़ जाएगी मुझको ️

 

दहेज के लालच में

 

तड़पाएंगे वो तुझको

 

कहने को बहु होगी

 

जानवर蘿 से कम ना समझेंगे तुझको

 

हर वक़्त ताने देंगे

 

फिर तू संस्कारों में बंधी ⚡नहीं बताएगी मुझको

 

बता मेरी लाडो 

 

कैसे जन्म दूँ तुझको l

 

Bata meri lado

 

Kese batau ☹️main tujhko

 

Kese roka hai mamta ko

 

Jajbato ke umadte sailab ko

 

Kese lau kokh se bahar

 

Meri masum gudiya ko

 

Khilona菉samajh kar khelenge

 

Nahi teri maa 擄 ke

 

Gharme sab khilaf hai

 

Kese janm du tujhko 

 

Bachpan se hi sangharsh ki aag me

 

Kese jhok du tujhko

 

Gar janm de bhi du tujhko

 

Bahar fek denge tujhko

 

Kahi jhadiyaya chaurahe ki

 

Chhav milegi tujhko

 

Acha chalo waha me rok️ lu

 

Shayad takat aa jaye mujhme

 

Fir jab tu badiho jayegi

 

Pankh failane se pehle hi rok️denge tujhko

 

Ladkihone ke nate jo mene saha hai lado

 

Kese sahne du tujhko

 

Chalo ghar par sab se lad kar

 

Bacha lungi tujhko

 

Bahar ghumte darindose

 

Kese bachaungi tujhko

 

Ghooregi vo giddh si nigahe️

 

Dekhkar takleef hogi tujhko

 

Mana tu lad legi unse

 

Tum par vishwas hai mujhko

 

Javani ki dahleej par khadi hogi

 

Pese ke taraju ⚖️ se tolenge tujhko

 

Ab bata ye sab

 

Kese bardasht ho mujhko

 

In sab ke bavjud tu

 

Chhod jayegi mujhko️

 

Dahej ki lalach me

 

Tadpayengevo tujhko

 

Kahne ko bahuhogi

 

Janvar蘿 se kam na samjhenge tujhko

 

Har waqttane denge tujhko

 

Fir tu sanskaro se bandhi⚡nahi batayegi mujhko

 

Bata meri lado

 

Kese janm du tujhko…


 

लोग कहते हैं कि मैं तुम जैसी हूँ

 

तुम जैसी आवाज, तुम जैसा चेहरा, और गुस्सा  भी तुम जैसा है

 

क्यों न हो मैं तुम्हारी ही परछाइ हूँ माँ, तुमसे ही तो ये गुण पाई हूँ l

 

बिना थके बिना रुके अपने कर्तव्य निभाना, मन टूटे दिल ♥️रूठे फिर भी मुस्कुराना,

 

सबका ख्याल रखना सबका सम्मान करना और इन सब में खुद को भूल जाना, तुमसे ही तो सीखा है माँ ll

 

Log kahte ki main tum jesi hu, tum jesi aawaj, tum jesa chehra, or gussa bhi tum jesa hai,

 

Kyo na ho main tumhari hi parchhaihu maa, tumse hi to ye gud pai hu..

 

Bina thake bina ruke apne kartavya nibhana, man toote dil♥️ruthe, fir bhi muskurana ,

 

Sabka khyal rakhna, sabka samman karna or in sab me khud ko bhool jana, tumse hi to seekha hai maa…

Read More 

8 thoughts on “Hindi Poem On Maa // मां हिंदी कविता 2022”

Leave a Comment